Vastu Tips : घर में लगाएं हरसिंगार का पौधा, सदा रहेगा मां लक्ष्मी का निवास

पारिजात को हरसिंगार के नाम से भी जाना जाता है. आमतौर पर लोग हरसिंगार के फूलों का इस्तेमाल पूजा-पाठ के लिए करते हैं. ये फूल बहुत ही मनमोहक होते हैं. वास्तु शास्त्र में पारिजात या हरसिंगार के पेड़ का बहुत महत्व है. आइए जानें पारिजात का पौधा लगाने के फायदे.
आप घर पर पारिजात का पौधा लगा सकते हैं. वास्तु शास्त्र के अनुसार जहां ये वृक्ष होता है वहां पर साक्षात लक्ष्मी का वास होता है. हरसिंगार को घर में लगाने से सुख समृद्धि आती है. ये पौधा वास्तु दोष दूर करता है.
आप घर पर पारिजात का पौधा लगा सकते हैं. वास्तु शास्त्र के अनुसार जहां ये वृक्ष होता है वहां पर साक्षात लक्ष्मी का वास होता है. हरसिंगार को घर में लगाने से सुख समृद्धि आती है. ये पौधा वास्तु दोष दूर करता है.
वास्‍तु शास्‍त्र के अनुसार हरसिंगार का पौधा नकारात्मकता को दूर करता है. ये पौधा जहां होता है वहां सकारात्मक उर्जा का संचार होता है. पारिजात के फूलों की सुंगध मस्तिष्क को शांत कर देती है और मानसिक तनाव को दूर करती है.
वास्‍तु शास्‍त्र के अनुसार हरसिंगार का पौधा नकारात्मकता को दूर करता है. ये पौधा जहां होता है वहां सकारात्मक उर्जा का संचार होता है. पारिजात के फूलों की सुंगध मस्तिष्क को शांत कर देती है और मानसिक तनाव को दूर करती है.
हरसिंगार के फूल सिर्फ रात को खिलते हैं. इसके फूल सुबह के समय मुरझा जाते हैं. ये फूल जिस भी घर-आंगन में खिलते हैं वहां हमेशा सुख-शांति बनी रहती है. इसके फूल की सुंगध जीवन से तनाव हटाती है. इससे घर-परिवार में खु‍शी का माहौल बना रहता है.
हरसिंगार के फूल सिर्फ रात को खिलते हैं. इसके फूल सुबह के समय मुरझा जाते हैं. ये फूल जिस भी घर-आंगन में खिलते हैं वहां हमेशा सुख-शांति बनी रहती है. इसके फूल की सुंगध जीवन से तनाव हटाती है. इससे घर-परिवार में खु‍शी का माहौल बना रहता है.
पौराणिक कथाओं के अनुसार ऐसा माना जाता है कि पारिजात के पेड़ की उत्पत्ति समुद्र मंथन के दौरान हुई थी. मां लक्ष्मी को हरसिंगार के फूल अर्पित करें. इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है और घर में सदा के लिए निवास करती हैं.
पौराणिक कथाओं के अनुसार ऐसा माना जाता है कि पारिजात के पेड़ की उत्पत्ति समुद्र मंथन के दौरान हुई थी. मां लक्ष्मी को हरसिंगार के फूल अर्पित करें. इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है और घर में सदा के लिए निवास करती हैं.