आँखों को भी प्रभावित कर सकती है थाइरोइड की समस्या ,ये लक्षण के प्रकट होते ही हो जाएं सतर्क

 

पिछले कुछ वर्षों में थायराइड की समस्या के मामलों में तेजी से वृद्धि देखी गई है। इस वजह से आमतौर पर लोगों का वजन काफी बढ़ जाता है या कम हो जाता है। थायराइड रोग एक हार्मोनल विकार है जो गले (थायरॉयड) में तितली के आकार की ग्रंथि के अनुचित कार्य के कारण होता है।

जब यह ग्रंथि पर्याप्त हार्मोन का उत्पादन नहीं करती है, तो इससे विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि थायराइड की समस्या आंखों को भी प्रभावित कर सकती है। मेडिकल रिपोर्ट्स बताती हैं कि थायराइड का असर आंखों पर भी देखने को मिलता है। इस समस्या को थायराइड आंखों के रूप में जाना जाता है।

इस प्रकार की समस्या तब होती है जब प्रतिरक्षा प्रणाली आंखों के आसपास की मांसपेशियों और अन्य ऊतकों पर हमला करती है। डॉक्टरों का कहना है कि आमतौर पर लोग मानते हैं कि यह समस्या आंखों की सेहत से जुड़ी है। लेकिन असल वजह जानना जरूरी है।

थायराइड आंख के लक्षण क्या हैं?

नेत्रगोलक में थायराइड का उभरना आंखों की समस्या का मुख्य लक्षण माना जाता है। इस तरह की समस्या खोपड़ी के उस हिस्से में समस्या के कारण होती है जहां आंख का केंद्र होता है। थायरॉइड आई कंडीशन में आंखों की और भी कई समस्याएं हो सकती हैं। जिस पर ध्यान देने की जरूरत है।

  • आंखों के सफेद हिस्से में लाली
  • आंखों में तेज खुजली या चुभन
  • सूखी या पानी आँखें
  • दोहरी दृष्टि
  • प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता
  • अलग-अलग दिशाओं में देखने पर आंखों में दर्द
  • अस्पष्ट दिखने के लिए

थायराइड नेत्र उपचार

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, स्थिति की गंभीरता के आधार पर विशेषज्ञ इसके लिए तरह-तरह के उपचार के तरीकों का इस्तेमाल करते हैं। उपचार में आमतौर पर छह महीने या एक साल तक का समय लग सकता है।

हल्के लक्षणों वाले लोगों को सलाह दी जाती है कि वे प्रकाश के प्रति अपनी संवेदनशीलता को बचाने के लिए चश्मा पहनें। इसके अलावा कुछ दवाओं का भी उपयोग किया जाता है। दोहरी दृष्टि में सुधार के लिए प्रिज्म का उपयोग किया जाता है।