राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन: किसी तीसरे पक्ष द्वारा यूक्रेन पर ‘नो फ्लाई जोन’ घोषित करना युद्ध माना जाएगा

मास्को : रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने शनिवार को कहा कि किसी तीसरे पक्ष द्वारा यूक्रेन पर ‘नो फ्लाई जोन’ घोषित करना युद्ध माना जाएगा. पुतिन ने शनिवार को महिला पायलटों के साथ बैठक में कहा कि रूस इस दिशा में की गई किसी भी कार्रवाई को हस्तक्षेप और रूस की सेना के लिए खतरा मानेगा. “उस समय, हम उसे सेना का सदस्य मानेंगे, और इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा कि वह कौन है,” उन्होंने कहा।

ज़ेलेंस्की ने नाटो से आग्रह किया यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने नाटो से अपने देश के हवाई क्षेत्र को नो-फ्लाई ज़ोन घोषित करने का आग्रह किया है। नाटो का कहना है कि इस तरह के “नो-फ्लाई ज़ोन” घोषित करने से यूक्रेन के ऊपर सभी अनधिकृत उड़ानों पर प्रतिबंध लग जाएगा, जिससे यूरोपीय देशों के बीच परमाणु-सशस्त्र रूस के साथ बड़े पैमाने पर युद्ध हो सकता है।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने शनिवार को कहा कि फिलहाल “मार्शल लॉ” जैसी कोई चीज नहीं है। ऐसी अटकलें थीं कि रूस में मार्शल लॉ लागू किया जा सकता है। पुतिन ने तब से यह बयान दिया है। पुतिन ने कहा कि मार्शल लॉ उन देशों में लगाया जाता है जहां बाहर से हमला होता है। “रूस में ऐसी कोई बात नहीं है, और हम आशा करते हैं कि ऐसा नहीं होगा,” उन्होंने कहा।

इजरायल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट यूक्रेन और रूस के बीच चल रहे युद्ध को खत्म करना चाहते हैं। वे शनिवार की रात अचानक मास्को पहुंचे और यहां उन्होंने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ ढाई घंटे तक बातचीत की। उन्होंने युद्ध को रोकने के लिए मध्यस्थता की शुरुआत की है। खास बात यह है कि रूस यूक्रेन पर लगातार हमले कर रहा है। एक के बाद एक क्षेत्र पर कब्जा कर रहे हैं।

बेनेट के कार्यालय ने रूसी राष्ट्रपति कार्यालय में दोनों नेताओं के बीच बैठक की पुष्टि की। बैठक के बाद दोनों नेताओं के बीच फोन पर बातचीत हुई। यह दौरा काफी अहम माना जाता है। दरअसल, इजरायल ने रूसी हमले की निंदा की और युद्ध को समाप्त करने का आह्वान किया।