Hair Research: सफेद बाल फिर होंगे काले, वैज्ञानिकों की नई खोज!

शारीरिक गतिविधियों में सुस्ती आना, चेहरे पर झुर्रियां आना और बालों का सफेद होना उम्र बढ़ने के लक्षण माने जाते हैं। लेकिन अब सफेद बालों को बिना कलर किए ही दोबारा काला किया जा सकता है। चूहों पर किया गया यह प्रयोग सफल रहा है और जल्द ही इंसान भी इस शोध का इस्तेमाल कर सकते हैं। इस बारे में खबर ‘टीवी 9 हिंदी’ ने दी है।

न्यू यॉर्क यूनिवर्सिटी के ग्रॉसमैन स्कूल ऑफ मेडिसिन के वैज्ञानिकों द्वारा हाल ही में किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि वर्णक की कमी के कारण काले बाल सफेद हो जाते हैं। लेकिन उनका कहना है कि सफेद बाल बिना डाई के फिर से काले हो सकते हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक, उन्होंने ऐसे स्टेम सेल की खोज की है, जो कई तरह की कोशिकाओं को विकसित करते हैं। इन कोशिकाओं की एक महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि वे बालों की जड़ के विभिन्न भागों में प्रवास कर सकती हैं। आइए जानते हैं कि बालों के रंग को कैसे वापस लाया जा सकता है।

उय

डेलीमेलम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, उम्र बढ़ने के साथ इंसान के बालों से स्टेम सेल हेयर फॉलिकल में फंस जाते हैं। युवावस्था में ही इन कोशिकाओं से छुटकारा पाया जा सकता है, लेकिन अब यह संभव नहीं है। इसलिए वे वर्णक का उत्पादन नहीं कर सकते। पिगमेंट की कमी के कारण बाल सफेद होते हैं। फिर बालों को कलर करना है। वैज्ञानिकों ने मेलेनोसाइट स्टेम सेल की खोज की है जो मानव बालों के रंग को नियंत्रित करती है। जर्नल नेचर में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, वैज्ञानिकों ने पता लगाया है कि मेलानोसाइट कोशिकाएं बालों को रंगने में भूमिका निभाती हैं। वैज्ञानिक अब बालों की जड़ों में फंसे स्टेम सेल को निकालेंगे ताकि वे पिगमेंट पैदा कर बालों का रंग वापस काला कर सकें।

वैज्ञानिक अब स्टेम सेल का उपयोग करके मानव बालों को प्राकृतिक रूप से काला करने का तरीका ढूंढ रहे हैं। शोधकर्ताओं ने जानकारी दी है कि चूहों पर प्रयोग सफल रहा है और उनके बालों में पिगमेंट की वापसी के कारण उनके सफेद बाल काले हो गए हैं. तो आप भी सफेद बालों को प्राकृतिक रूप से काला कर सकते हैं।