CM चन्नी के रिश्तेदार के घर अब तक 10 करोड़ से ज्यादा का कैश बरामद, ED की रेड

पंजाब (Punjab) में ईडी (Enforcement Directorate) ने राज्य में लगभग 10 जगहों पर कल छापेमारी की है. छापेमारी मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) के रिश्तेदारों के घर पर हुई है. ईडी ने मोहाली, लुधियाना और फतेहगढ़ साहिब में दबिश दी. बता दें अब तक हनी मोहाली स्थित आवास से 7.9 करोड़ की कुल नकद जब्त किए गए हैं. वहीं पंजाब मेंवहीं अब तक कुल मिलाकर 10.7 से ज्यादा का कैश बरामद किया जा चुका है. रेड किसी-किसी जगह पर की गई है.

पंजाब में छापेमारी के दौरान कुछ कंपनी से जुड़े महत्वपूर्ण दस्तावेज भी मिले हैं , जिसमें ये पता चलता है कि भूपेंद्र ( मुख्यमंत्री का रिश्तेदार ) और रेत माफिया कुदरतदीप दो कंपनी के संयुक्त तौर पर डायरेक्टर भी हैं , उस कंपनी द्वारा बहुत ज्यादा काम भी नहीं होता है लेकिन पैसों का संदिग्ध लेनदेन ज्यादा है. ईडी ने मोहाली के एक निजी अपार्टमेंट में रेड मारी. यह रेड काफी लंबी चली. अपार्टमेंट के सेक्रेटरी ने बताया कि सुबह 8 बजे रेड शुरू हुई है. यहां ईडी की टीम के साथ सीआरपीएफ की टीम भी पहुंची है.पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी के रिश्तेदार भूपेंद्र के दो ठिकानों से 8 करोड़ रुपये जब्त किये गए हैं. वहीं एक अन्य आरोपी के पास से दो करोड़ रुपये जब्त किये गए हैं.

लुधियाना के एक घर में रेड

वहीं दूसरी ओर लुधियाना के एक घर में रेड मारी गई. इसक साथ-साथ फतेहगढ़ साहिब के गांव बुगा कलां में कांग्रेस के सरपंच रनदीप सिंह के घर पर भी ईडी ने छापा मारा. ईडी की टीम ने यहां पंजाब पुलिस को भी अंदर नहीं जाने दिया. बताया जा रहा है कि फतेहगढ़ साहिब मे कांग्रेस सरपंच की नजदीकियां पंजाब के कृषि मंत्री रनदीप सिंह काका से हैं.

सियासत में मची हलचल

पंजाब मे हुई ईडी रेड के बाद सियासत में हलचल मच गई है. पंजाब के सीएम चरणोजीत सिंह चन्नी ने कहा, ‘पश्चिम बंगाल में जब चुनाव हुए थे तो ऐसे ही रेड हुई थी. ईडी की रेड करवा कर दबाव बनाया जा रहा है. अब जब चुनाव आ गए हैं तो इनको ईडी की रेड याद आ गई है. ये सब दबाव हम झेलने के लिए तैयार है. कांग्रेस के हर कार्यकर्ता को दबाने की कोशिश की जा रही है.

 

2018 की FIR बनाकर की जा रही रेड

साल 2018 की किसी एफआईआर को आधार बनाकर ये रेड की जा रही है. तब तो मैं सीएम भी नही था. पिछले दिनों में जो कार्यक्रम हुए है आप सब को पता है उसके बदले में अब ये पंजाब की कांग्रेस को और मुझे दबाने की ये सब कोशिश की जा रही है. ये सफल नहीं होगी. हम चुनाव को आगे बढ़ाएंगे. इसे विफल नहीं होने देंगे. हमारे मंत्रीयों और मुझे टारगेट किया जा रहा है. पंजाबी कभी दबते नहीं है मै ये बता देना चाहता हूं.’बता दें कि पंजाब विधान सभा चुनाव में अवैध बालू खनन और बालू माफिया का मुद्दा अहम है. सीएम चरणजीत सिंह चन्नी, नवजोत सिंह सिद्धू और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल इस मुद्दे को कई बार उठा चुके हैं. नवजोत सिंह सिद्धू ने तो बालू का रेट तय करने का वादा भी किया है.