Thursday, February 22

69 साल बाद एयर इंडिया की नई उड़ान:दिल्ली से मुंबई की पहली उड़ान पर कप्तान बोले- एयर इंडिया 7 दशक के बाद फिर टाटा ग्रुप का हिस्सा बनी

टाटा ग्रुप का हिस्सा बनने के बाद शुक्रवार से एयर इंडिया ने निजी क्षेत्र की विमानन कंपनी के रूप में उड़ान भरनी शुरू कर दी है। पहली उड़ान (एआई-665) ने आज दिल्ली से मुंबई के लिए भरी। टाटा ग्रुप ने गुरुवार को ही देश की सबसे बड़ी विमानन कंपनी एयर इंडिया को विनिवेश प्रक्रिया के जरिए टेकओवर किया था। टाटा ग्रुप की कंपनी के रूप में 7 दशक के बाद नया सफर शुरू होने पर फ्लाइट में अनाउंसमेंट का तरीका भी बदला गया है।

टाटा ग्रुप ने आज से शुरू हो रही एयर इंडिया में उड़ान भरने से पहले यात्रियों का स्वागत खास तरीके से करने के लिए क्रू मेंबर्स को एक सर्कुलर जारी किया गया। आज सुबह नई दिल्ली से मुंबई के लिए रवाना हुई एयर इंडिया की उड़ान संख्या एआई-665 की कमान कैप्टन वरुण खंडेलवाल ने संभाली। उड़ान की शुरुआत में कैप्टन खंडेलवाल ने सभी मुसाफिरों का स्वागत करते हुए कहा कि ‘प्रिय ग्राहक, मैं आपका कैप्टन (अपना नाम) बोल रहा हूं। आज की इस ऐतिहासिक उड़ान के लिए आपका स्वागत है। आज का दिन बहुत खास है, क्योंकि एयर इंडिया 7 दशक बाद आधिकारिक तौर से दोबारा टाटा ग्रुप का हिस्सा बन गई है। हम नए जोश के साथ एयर इंडिया की इस फ्लाइट और हर फ्लाइट में आपकी सेवा करने के लिए उत्सुक हैं। आशा है कि आपकी यात्रा मंगलमय होगी। धन्यवाद.’

एयर इंडिया की कमान संभालने के साथ ही टाटा ग्रुप ने सबसे पहले उड़ानों के संचालन को पूरी तरह से नियमित करने की दिशा में काम करना शुरू कर दिया है। देश की सबसे बड़ी विमानन कंपनी होने के बावजूद एयर इंडिया सरकारी लालफीताशाही और लेटलतीफी की वजह से बदनाम रही है। ऐसे में टाटा ग्रुप की पहली कोशिश इसके संचालन को नियमित करके लेटलतीफी के दाग से मुक्त होने की है।

इसके साथ ही टाटा ग्रुप एयर इंडिया के सीटिंग अरेंजमेंट और केबिन क्रू के ड्रेस कोड में भी बदलाव पर विचार कर रही है। इसके अलावा आने वाले दिनों में एयर इंडिया की छवि को सुधारने के लिए इस विमानन कंपनी में कई और भी नए बदलाव देखने को मिल सकते हैं। हालांकि अभी भविष्य में होने वाले इन बदलावों के बारे में एयर इंडिया या टाटा ग्रुप की ओर से कोई स्पष्ट जानकारी नहीं दी गई है।