यू पी चुनाव: अपर्णा यादव नहीं लड़ेंगी चुनाव, सरकार बनने के बाद का होगा फैसला

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में होने वाले विधान सभा चुनाव (UP Assembly Election) से पहले मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव (Aparna Yadav) बीजेपी में शामिल हो गई हैं. अब यह जानकारी सामने आ रही है कि बीजेपी अपर्णा को साल 2022 का चुनाव नहीं लड़ाएगी.

अपर्णा को एमएलसी बनाएगी बीजेपी

इसके साथ ही सरकार बनने के बाद अपर्णा यादव को लेकर बीजेपी का प्लान क्या है, यह सामने आ गया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, अगर उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनती है तो पार्टी अपर्णा यादव (Aparna Yadav) को विधान परिषद का सदस्य बना सकती है.

अपर्णा ने 2017 में पहली बार लड़ा था चुनाव

अपर्णा यादव (Aparna Yadav) ने साल 2017 में लखनऊ की कैंट सीट से विधान सभा का चुनाव लड़ा था, लेकिन उन्हें भाजपा प्रत्याशी रीता बहुगुणा जोशी (Rita Bahuguna Joshi) से हार का सामना करना पड़ा था. 2017 के चुनाव में अखिलेश यादव ने भी अपर्णा के लिए प्रचार किया था.

कौन हैं अपर्णा यादव?

अपर्णा यादव (Aparna Yadav), सपा के पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) की दूसरी पत्नी साधना यादव के बेटे प्रतीक यादव (Prateek Yadav) की पत्नी हैं. अपर्णा का जन्म 1 जनवरी 1990 को हुआ था और उनके पिता अरविंद सिंह बिष्ट एक पत्रकार रहे हैं. उनके पिता को सपा की सरकार में सूचना आयुक्त बनाया गया था. वहीं, उनकी मां अंबी बिष्ट लखनऊ नगर निगम में अधिकारी हैं.

2011 में हुई थी अपर्णा और प्रतीक की शादी

अपर्णा यादव (Aparna Yadav) और प्रतीक यादव की मुलाकात स्कूल के दिनों में हुई थी. लखनऊ के लोरेटो कॉन्वेंट इंटरमीडिएट कॉलेज से शुरुआती पढ़ाई करने वाली अपर्णा ने ब्रिटेन की मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल रिलेशन एंड पॉलिटिक्स में मास्टर डिग्री ली है. अपर्णा और प्रतीक की सगाई 2010 में हुई थी. दोनों की शादी दिसंबर 2011 में मुलायम सिंह यादव के पैतृक गांव सैफई में हुई. दोनों की एक बेटी है, जिसका नाम प्रथमा है.