भारतीय परंपराओं के पीछे छुपे स्वास्थ्य लाभ

भारतीय परंपराएं: भारत विविध संस्कृति वाला देश है। इसीलिए हर संस्कृति के अपने रीति-रिवाज और परंपराएं (भारतीय परंपराएं) होती हैं। हर कोई अपने-अपने रीति-रिवाजों का उसी तरह पालन करता है जैसे सदियों पहले किया करता था। इनमें से कई परंपराएं विज्ञान से भी जुड़ी हुई हैं। लेकिन स्वास्थ्य लाभ से जुड़ी कुछ परंपराएं ऐसी भी हैं जिनके बारे में बहुत से लोग नहीं जानते हैं। इनमें नमस्ते, ध्यान, खाना पकाने में हल्दी का उपयोग, तांबे के बर्तन में पानी पीना और हाथ से खाना शामिल है। आइए आज जानते हैं इन सदियों पुरानी परंपराओं के पीछे के स्वास्थ्य लाभों के बारे में।

नमस्ते एक मूल्य है जो विनम्रता और कृतज्ञता व्यक्त करता है। यह तालियों के लिए किया जाता है। हाथों की हथेलियों को जब हम नमस्ते में जोड़ते हैं तो इसे अंजलि मुद्रा कहते हैं। अंजलि मुद्रा के नियमित अभ्यास से एकाग्रता बढ़ती है, मन शांत होता है और तनाव दूर करने में मदद मिलती है। अंजलि मुद्रा हमारी विचार प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करती है। यह अधिवृक्क और पिट्यूटरी ग्रंथियों के कार्य को संतुलित करता है।

परंपरागत रूप से पूजा की शुरुआत मंदिर में घंटियों के बजने से होती है। घंटी की शांत ध्वनि व्यक्ति को ध्यान केंद्रित करने और स्वयं से जुड़ने में मदद करती है। घंटी की सुखदायक ध्वनि मस्तिष्क के बाएँ और दाएँ भाग के बीच सामंजस्य स्थापित करती है। यह ध्वनि मानव शरीर के सात चक्रों को सक्रिय करती है। यह नकारात्मक विचारों को दूर करता है।

ध्यान का उद्देश्य साधक की आत्मा (जीवात्मा) और परमात्मा के बीच एकता प्राप्त करना है। ध्यान आपके शरीर, मन और इंद्रियों को शांत करता है। ध्यान एकाग्रता के स्तर को बढ़ाता है। यह आपके भावनात्मक स्वास्थ्य की देखभाल करने के साथ-साथ सिरदर्द, अनिद्रा, जोड़ों और मांसपेशियों की समस्याओं को कम करने में मदद करता है।

हल्दी भारत में पीढ़ियों से इस्तेमाल किया जाने वाला मसाला है। इसका उपयोग कई चीजों के लिए किया जाता है। यह न सिर्फ खाने का स्वाद बढ़ाता है, बल्कि कई रस्मों में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। हल्दी में कई औषधीय गुण भी होते हैं। हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट के साथ-साथ करक्यूमिन नामक एंटीऑक्सीडेंट भी होता है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है और हृदय रोग के जोखिम को कम करता है।

उंगलियों के तंत्रिका अंत पाचन को बढ़ाते हैं। आयुर्वेद के अनुसार हमारी पांचों उंगलियां पांच तत्वों के बराबर होती हैं। इनमें भूमि, जल, अग्नि, आकाश और वायु शामिल हैं। यह शरीर के पंचतत्वों को जागृत करता है। इससे न केवल भूख, बल्कि मन भी तृप्त होता है। वेदों के अनुसार हमारी उंगलियों की गांठ का संबंध तीसरी आंख, हृदय, कंठ, सौर जाल, लिंग, जड़ चक्र से है। अतः भोजन करते समय हाथ से स्पर्श करने से चक्र उत्तेजित होते हैं और अनेक लाभ होते हैं।

कॉपर मानव स्वास्थ्य के लिए एक आवश्यक खनिज है। यह पानी में मौजूद फफूंद, फफूंद और बैक्टीरिया जैसे सूक्ष्मजीवों को मार सकता है जो शरीर को नुकसान पहुंचा सकते हैं। तांबे के बर्तन में रखा पानी शरीर के पीएच संतुलन को बनाए रखने में भी मदद करता है। कॉपर एनीमिया, कम कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को रोकने के लिए जाना जाता है।