प्रियंका चोपड़ा आज दुनियाभर में जाना-पहचाना नाम हैं। अब वह अपने पति निक जोनास के साथ अमेरिका में रहती हैं, लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब प्रियंका हाई स्कूल की पढ़ाई के लिए अमेरिका गई थीं और वहां उन्हें कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा था। एक वक्त ऐसा भी आया जब प्रियंका को अपना लंच बाथरूम में करना पड़ा। पीसी तब उतने आत्मविश्वासी नहीं थे जितने अब हैं। उन्हें विदेशियों से बहुत निराशा हुई। इस बात का खुलासा खुद प्रियंका ने हाल ही में एक इंटरव्यू में किया है।

प्रियंका चोपड़ा बाथरूम में लंच कर रही थीं

प्रियंका चोपड़ा ने एक साक्षात्कार में कहा कि वह पहली बार किशोरी के रूप में अपनी हाई स्कूल की पढ़ाई के लिए अमेरिका गई थीं। प्रियंका को उस वक्त भरोसा नहीं था कि वो विदेशियों के बीच बैठकर लंच कर सकती हैं। वह उन लोगों में बहुत निराश महसूस करती थी। पीसी ने यह भी कहा कि शुरुआती हफ्ते उनके लिए काफी मुश्किल भरे रहे। फिर धीरे-धीरे उसके लिए सब कुछ सामान्य हो गया।

प्रियंका चोपड़ा नॉन-अमेरिकन लग रही थीं

प्रियंका चोपड़ा ने कहा, ‘मैं अपना लंच बाथरूम में, एक स्टॉल के अंदर करती थी, क्योंकि मैं बहुत नर्वस थी। मुझे नहीं पता था कि कैफेटेरिया में खाना लेने कैसे जाना है, वहां की वेंडिंग मशीन से डोरिटोस मंगवाते थे। मैं बाथरूम जाता, फिर जल्दी से लंच करता और अपनी क्लास में चला जाता। ऐसे में मुझे दूसरे बच्चों से मिलना नहीं था। प्रियंका ने बताया कि ये सब उन्होंने 3 से 4 हफ्ते तक किया। फिर बाकी बच्चों को देखकर उन्हें वहां के रहन-सहन की स्थिति का पता चला।

आसपास के माहौल से बहुत कुछ सीखा-प्रियंका

प्रियंका चोपड़ा ने आगे कहा, ‘आखिरकार मैंने ये सब किया। मैंने यह सब पहले तीन या चार हफ्तों तक किया। मैं उस समय किसी को नहीं जानता था। वेंडिंग मशीन का संचालन काफी सरल था। मैंने अपने परिवेश से सीखा। नेविगेट कैसे करें, होमरूम कैसे खोजें, कैफेटेरिया कैसे जाएं, अपनी ट्रे कैसे प्राप्त करें। ये सब मेरे लिए नया था। मैंने आत्मविश्वास महसूस करने से पहले तीन-चार सप्ताह तक यह सब देखा और सीखा। मैं बेवकूफ नहीं दिखना चाहता था।