प्रमुख धार्मिक स्थलों से जुड़ेगी रामनगरी, लग्जरी स्लीपर वोल्वो बसें भी होंगी संचालित

रामलला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद रामनगरी को प्रदेश ही नहीं देश के प्रमुख धार्मिक स्थलों से जोड़ा जाएगा। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम ने श्रद्धालुओं और पर्यटकों को राममंदिर के दर्शन कराने के साथ प्रदेश के अन्य प्रमुख धार्मिक स्थलों का भ्रमण कराने के लिए बस सेवा संचालित करने की योजना बनाई है।

अयोध्या से वाराणसी, विंध्यवासिनी मंदिर, मथुरा, वृंदावन, बरसाने, गोवर्धन, गोरखपुर स्थित गोरक्षनाथ मंदिर, कुशीनगर में महा परिनिर्वाण मंदिर, चित्रकूट कामतानाथ मंदिर, कामतगिरी परिक्रमा सहित अन्य प्रमुख धार्मिक स्थलों के लिए बसें संचालित की जाएगी। मध्यप्रदेश में निवाड़ी स्थित रामराजा सरकार, दतिया स्थित पीतांबरा माता मंदिर, राजस्थान में मेहंदीपुर बालाजी, खाटू श्माम जी और पुष्कर के लिए भी बसें संचालित की जाएंगी।

परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह ने बताया कि अयोध्या को सोलर सिटी के रूप में स्थापित किया जा रहा है। इसलिए अयोध्या में अधिकांश इलेक्ट्रिक बसें संचालित की जाएगी। इनके अतिरिक्त अनुबंध के आधार पर एसी स्लीपर क्लास, वोल्वो स्लीपर क्लास बसों का संचालन भी किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आगामी दो वर्ष में अयोध्या में एयरपोर्ट की तर्ज पर अत्याधुनिक बस स्टैंड भी बनकर तैयार हो जाएगा। सरकार की मंशा है कि प्रयागराज, वाराणसी, चित्रकूट, कुशीनगर, मथुरा, वृंदावन, आगरा, गोरखपुर आने वाले श्रद्धालु और पर्यटक अयोध्या भी पहुंचे। वहीं अयोध्या आने वाले रामभक्तों को भी प्रदेश के दूसरे प्रमुख धार्मिक स्थलों तक जाने की सुगम व्यवस्था मिले। इससे एक ओर पर्यटन बढ़ेगा वहीं स्थानीय लोगों के लिए रोजगार और व्यापार बढ़ेगा। अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिलेगी।