टेनिस एसोसिएशन एटीपी ने बेलारूस और रूस के टेनिस खिलाड़ियों को खेलने की अनुमति दी

Australian Open

लंदन, 2 मार्च । यूक्रेन में रूस के सैन्य अभियानों के बाद, एसोसिएशन ऑफ टेनिस प्रोफेशनल्स (एटीपी) ने घोषणा की कि रूस और बेलारूस के खिलाड़ियों को एटीपी और वर्ल्ड टेनिस एसोसिएशन (डब्ल्यूटीए) कार्यक्रमों में प्रतिस्पर्धा करने की अनुमति दी जाएगी।

आईओसी,फीफा, यूएफा सहित कई खेल शासी निकायों द्वारा रूसी खिलाड़ियों पर प्रतिबंध लगाने के बावजूद यह निर्णय आया है।

टेनिस के अंतरराष्ट्रीय शासी निकाय द्वारा एक आधिकारिक संयुक्त बयान में कहा,”पिछले एक हफ्ते में यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के बाद पूरे टेनिस समुदाय में संकट, सदमे और उदासी की गहरी भावना महसूस की गई है। हमारे विचार यूक्रेन के लोगों के साथ हैं, और हम उन कई टेनिस खिलाड़ियों की सराहना करते हैं जिन्होंने आक्रामकता के इस अस्वीकार्य कृत्य के खिलाफ कार्रवाई करने की बात की है। हम हिंसा को समाप्त करने और शांति की वापसी के लिए उनके आह्वान का समर्थन करते हैं।”

बयान में आगे कहा गया, “टेनिस समुदाय की सुरक्षा हमारी सबसे तात्कालिक सामूहिक प्राथमिकता है। डब्ल्यूटीए और एटीपी का ध्यान विशेष रूप से हाल के दिनों में वर्तमान और पूर्व खिलाड़ियों व यूक्रेन और पड़ोसी देशों के टेनिस समुदाय के अन्य सदस्यों से संपर्क करने पर रहा है ताकि जांच की जा सके और उनकी सुरक्षा और किसी भी सहायता की पेशकश हो सके।”

डब्ल्यूटीए और एटीपी बोर्डों ने इस अक्टूबर में मास्को में होने वाले डब्ल्यूटीए/ एटीपी संयुक्त आयोजन को स्थगित करने का निर्णय लिया है।

आईटीएफ बोर्ड ने रूसी टेनिस महासंघ और बेलारूस टेनिस महासंघ की सदस्यता को निलंबित करने और अगली सूचना तक सभी आईटीएफ टीम प्रतियोगिताओं से अपनी प्रविष्टियाँ वापस लेने का निर्णय लिया है। यह कार्रवाई रूस और बेलारूस में सभी आईटीएफ टूर्नामेंटों को अनिश्चित काल के लिए रद्द करने के बाद की गई है।

इस समय, रूस और बेलारूस के खिलाड़ियों को टूर और ग्रैंड स्लैम में अंतरराष्ट्रीय टेनिस स्पर्धाओं में भाग लेने की अनुमति दी जाएगी। हालांकि, वे अगली सूचना तक रूस या बेलारूस के नाम या ध्वज के तहत प्रतिस्पर्धा नहीं करेंगे।

बता दें कि रूस और यूक्रेन के बीच बढ़ते तनाव के बाद, खेल बिरादरी ने रूस में कई कार्यक्रम रद्द कर दिए गए हैं, जिसमें रूसी ग्रां प्री भी शामिल है। चैंपियंस लीग का फाइनल भी रूस से बाहर कर दिया गया है और यह अब पेरिस में होगा।

यूईएफए और फीफा ने भी अगली सूचना तक रूस को अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल से प्रतिबंधित कर दिया है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने गुरुवार को यूक्रेन में एक सैन्य अभियान की घोषणा की थी और अन्य देशों को चेतावनी दी थी कि रूसी कार्रवाई में हस्तक्षेप करने के किसी भी प्रयास के परिणाम खतरनाक होंगे।