जितिन प्रसाद के ओएसडी अनिल कुमार पांडे का तबादला हुआ

उत्तर प्रदेश में लोक निर्माण विभाग में तबादलों से जुड़े भ्रष्टाचार के मामले में योगी सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है. उत्तर प्रदेश लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) मंत्री जितिन प्रसाद के ओएसडी अनिल कुमार पांडे का तबादला कर दिया गया है, जबकि राज्य सरकार के पीडब्ल्यूडी विभाग में अनियमितताओं और भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद पांच अन्य अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। लोक निर्माण विभाग जितिन प्रसाद के अधीन है और उनका विभाग इस समय ट्रांसफर पोस्टिंग में भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर सुर्खियों में है।

तबादला संबंधित भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाए गए लोक निर्माण मंत्री जितिन प्रसाद के ओएसडी अनिल कुमार पांडेय को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया गया है. इतना ही नहीं, भारत सरकार से प्रतिनियुक्ति पर आए अनिल पांडे के खिलाफ भी विजिलेंस जांच व विभागीय कार्रवाई की अनुशंसा की गई है. जितिन प्रसाद पांडे को दिल्ली से यूपी ले आए।

18 जुलाई को अनिल कुमार पांडेय के खिलाफ कार्रवाई के बाद लोक निर्माण विभाग में तबादला अनियमितता के चलते पीडब्ल्यूडी प्रमुख यानी पीडब्ल्यूडी व मुख्य अभियंता मनोज गुप्ता समेत कुल पांच अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है. पांडे ने अतीत में जितिन प्रसाद के साथ काम किया है, जब जितिन प्रसाद यूपीए सरकार में केंद्रीय मंत्री थे और उन्हें प्रतिनियुक्ति पर लखनऊ लाया गया था।

दो और पीडब्ल्यूडी अधिकारियों पर भी विभाग में तबादलों में गड़बड़ी का आरोप है. माना जा रहा है कि इस मामले के बाद जितिन प्रसाद ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की और आज यानी बुधवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करने की संभावना है. फिलहाल जितिन प्रसाद न तो बात कर रहे हैं और न ही किसी के फोन का जवाब दे रहे हैं।