गलवान की पराजय के बाद पहली बार कोई चीनी रक्षा मंत्री भारत आएंगे, राजनाथ सिंह से मिलेंगे

पिछले कुछ समय से भारत और चीन के बीच सीमा पर लगातार गतिरोध बना हुआ है। अब गलवान में तेजी के बाद पहली बार चीनी विदेश मंत्री भारत दौरे पर आए हैं। यहां उनकी मुलाकात राजनाथ सिंह से होगी।

शंघाई सहयोग संगठन के रक्षा मंत्रियों की बैठक के लिए चीन के रक्षा मंत्री जनरल ली शांगफू दिल्ली पहुंच गए हैं। यह बैठक 28 अप्रैल को होगी। गलवान में हुई हिंसा के बाद से यह पहला मौका है जब किसी चीनी रक्षा मंत्री ने भारत का दौरा किया है।

बैठक से पहले जनरल ली शांगफू भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करेंगे। इस दौरान दोनों नेताओं के बीच द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा होगी। राजनाथ सिंह और ली शांगफू के बीच बैठक में वास्तविक नियंत्रण रेखा के मुद्दे पर चर्चा होने की संभावना है। भारत और चीन के बीच 18वीं मिलिट्री लेवल की मीटिंग पिछले हफ्ते हुई थी।

यह बैठक पूर्वी लद्दाख के चुसुल-मोल्डो में हुई थी। दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हुए कि आने वाले दिनों में सीमा पर झड़पों से बचने के लिए एक-दूसरे के बीच विश्वास कायम करने के प्रयास किए जाएंगे। हालांकि, पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर डेपसांग मैदानों और डी-एस्केलेशन के विवादास्पद मुद्दे पर बैठक विफल रही।

इसके अलावा चीनी रक्षा मंत्री अपने रूसी समकक्ष सर्गेई शोइगू से भी मुलाकात कर सकते हैं। रूसी रक्षा मंत्री ने आखिरी बार दिसंबर 2021 में भारत-रूस मंत्रिस्तरीय संवाद के लिए भारत का दौरा किया था।