खुशी एक पल के लिए भी नहीं टिकी; नई कार की पूजा कर घर लौट रहे थे, हुआ उल्टा… एक ही परिवार में तीन लोगों की मौत हो गई

दुर्घटना: किसी का समय कब और कैसे आ जाए, कहा नहीं जा सकता कई बार ऐसी घटनाएं होती हैं कि खुशी का माहौल दर्द में झलक जाता है. ऐसा ही चौंकाने वाला अनुभव छत्तीसगढ़ के एक परिवार के साथ हुआ है। बड़ी खुशी के साथ वह अपने सपनों की कार घर ले आया। हालांकि, यह खुशी एक पल के लिए भी नहीं टिकी। नई कार का पूजन कर घर आते समय हुआ विपरीत। भीषण हादसे में एक ही परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गई है। यह एक हैरान कर देने वाला हादसा है.

हादसा छत्तीसगढ़ के बालोद में हुआ। मंदिर से नई कार खरीदकर और कार की पूजा कर घर लौटते वक्त इस परिवार पर समय ने हमला बोल दिया है. इस भीषण हादसे में नौ माह के बच्चे समेत तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। घायलों का इलाज अस्पताल में चल रहा है। 

हादसा राजहरा-राजनांदगांव मुख्य मार्ग पर सहगांव गांव के पास हुआ. बालोद जिले के गिधली गांव निवासी चंपा साहू ने स्विफ्ट डिजायर कार खरीदी थी। कार को घर लाने के बाद परिवार ने अगले दिन कार को देवदर्शन ले जाने की योजना बनाई। 

साहू सपरिवार डोगरगढ़ मां बम्लेश्वरी मंदिर में दर्शन के लिए आए। यहां उन्होंने सहकुटुम्बा देवी के दर्शन किए। यहां उन्होंने नई कार की पूजा भी की। देवदर्शन और कार पूजा के बाद साहू परिवार घर के लिए रवाना हो गया। हालाँकि, वापसी की यात्रा उनके जीवन की अंतिम यात्रा थी।

कार दुर्घटना कैसे हुई?

हादसा डोंडीलोहरा थाना क्षेत्र के सरगांव गांव के पास हुआ। साहू अपनी कार चला रहे थे कि अचानक उनकी कार के सामने दो भैंसें आ गईं। इन भैंसों की जान बचाने के प्रयास में साहू की कार ट्रक से टकरा गई और भीषण हादसा हो गया। नई कार से सफर कर रहे इस परिवार के साथ बेहद दुखद घटना घटी। 

इस हादसे में साहू के परिवार के चार सदस्यों की मौत हो गई है. 42 वर्षीय चंपालाल साहू पुत्र रामजी, 55 वर्षीय अहिल्या साहू पत्नी रामजी, 20 वर्षीय खुशी साहू पुत्री चंपालाल की मौत हो गई। इसके अलावा करीब 9 माह के रिद्धिक, 60 वर्षीय रामजी साहू, 36 वर्षीय यमुना साहू गंभीर रूप से घायल हैं. स्थानीय लोगों ने तुरंत दुर्घटना पीड़ितों की मदद की। इसके तुरंत बाद स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंच गई। समय पर मिली मदद ने हादसे के शिकार लोगों की जान बचाई है।