क्या शरीर के लिए हानिकारक है कॉफ़ी ?

कॉफी के कई फायदे और नुकसान हैं। तो क्या मुझे यह कैफीन युक्त पेय (पीने योग्य वस्तु) पीना चाहिए या नहीं? हो सकता है कि आप ऐसा सवाल पूछ रहे हों। अब एक अन्य अध्ययन में यह बताया गया है कि कॉफी पीने से पाचन शक्ति और आंत पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इतना ही नहीं, यह पित्त पथरी और कई अन्य लीवर रोगों से बचाता है।

फ्रेंच नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एंड मेडिकल रिसर्च के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अध्ययन को न्यूट्रिएंट जर्नल में प्रकाशित किया गया था। इस नए अध्ययन में 194 पहले प्रकाशित अध्ययनों की समीक्षा के बाद पाया गया कि कॉफी के सीमित सेवन से शरीर के पाचन अंगों को कोई नुकसान नहीं हुआ। इसलिए बेहतर है कि आप रोजाना 3 से 5 कप कॉफी का सेवन करें। कई लोग अब कॉफी से संबंधित दो विशेष मुद्दों के अध्ययन में रुचि रखते हैं। पहला, क्या कॉफी पित्त पथरी के खतरे को कम करती है? और दूसरा, क्या कॉफी पीना अग्नाशय के जोखिम को कम करने से संबंधित है? बेशक इसकी पुष्टि के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है।

एक हालिया अध्ययन में पाया गया कि “कॉफी का सेवन कई अन्य बीमारियों से बचाता है, जिसमें हेपेटोसेलुलर कार्सिनोमा (हेपेटोसेलुलर कार्सिनोमा) और लीवर कैंसर शामिल हैं।” हालांकि इस बात के प्रमाण हैं कि कॉफी पाचन के शुरुआती चरणों में मदद करती है, अधिकांश डेटा इस बात की पुष्टि नहीं करते हैं कि कॉफी का गैस्ट्रो-एसोफेगल रिफ्लक्स पर सीधा प्रभाव पड़ता है। हालांकि, यह मोटापे और खराब खाने की आदतों जैसे अन्य जोखिमों का संयोजन भी हो सकता है।

 फ्रेंच नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ एंड मेडिकल रिसर्च के निदेशक एस्ट्रिड नेहलिग कहते हैं, “कॉफी का पेट या पाचन संबंधी समस्याओं से कोई लेना-देना नहीं है।” कॉफी को कब्ज जैसी समस्याओं को रोकने के लिए भी दिखाया गया है। कुछ आंकड़ों से पता चलता है कि, इस तथ्य के बावजूद कि कॉफी लाभकारी बैक्टीरिया जैसे कि बिफोडोबैक्टीरिया के स्तर को बढ़ाती है, पूरे पाचन तंत्र पर कॉफी के प्रभावों को बेहतर ढंग से समझने के लिए और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

कॉफी के तीन मुख्य प्रभाव होते हैं
कॉफी गैस्ट्रिक, पित्त और अग्नाशय के स्राव से जुड़ी होती है, जो भोजन के पाचन के लिए आवश्यक हैं। कॉफी पाचन हार्मोन गैस्ट्रिन के उत्पादन और गैस्ट्रिक जूस में हाइड्रोक्लोरिक एसिड के उत्पादन को उत्तेजित करती है। ये दोनों पदार्थ पेट में पोषक तत्वों के टूटने में मदद करते हैं।

– कॉफी आंतों के माइक्रोबायोटा की संरचना को भी बदल देती है। यह गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में मौजूद बिफीडोबैक्टीरिया की संख्या को भी प्रभावित करता है।

– कॉफी की गतिशीलता पाचन तंत्र के माध्यम से भोजन को पारित करने की प्रक्रिया से संबंधित है। कॉफी बृहदान्त्र की गतिशीलता को बढ़ाती है। कैफीन मुक्त कॉफी गतिशीलता को 23% तेज करती है। यह पुरानी कब्ज के जोखिम को भी कम करता है।