क्या पाकिस्तान में सेना कर सकती है तख्तापलट? पूर्व पीएम बोले- सिस्टम फेल हुआ तो…

पाकिस्तान इस वक्त जिस आर्थिक संकट से गुजर रहा है, उससे हर कोई वाकिफ है। इसी बीच पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद अब्बासी ने बड़ा बयान दिया है। उनका कहना है कि पाकिस्तान में राजनीतिक और आर्थिक संकट इतना विकट है कि सेना यहां तख्तापलट कर सकती है। उनके अनुसार, जब भी व्यवस्था विफल होती है या राजनीतिक नेतृत्व और संगठनों के बीच विवाद होता है, तो हमेशा मार्शल लॉ की संभावना बनी रहती है।

अब्बासी ने शीर्ष हितधारकों से बातचीत की अपील की है। शाहिद अब्बासी अगस्त 2017 से मई 2018 तक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री थे। अब्बासी के मुताबिक हालात बेकाबू होने से पहले इमरान खान, नवाज शरीफ और आर्मी चीफ असीम मुनीर को बातचीत करनी चाहिए।

पूर्व प्रधानमंत्री ने चेतावनी दी है कि अगर समाज और संस्थाओं के बीच टकराव होता है तो ऐसी स्थिति में शक्तिशाली सेना पूरे हालात को अपने कब्जे में ले सकती है. इसके लिए उन्होंने कई देशों का उदाहरण देते हुए कहा कि ऐसा कई देशों में हो चुका है। जब राजनीतिक और संवैधानिक प्रणाली विफल हो जाती है तो अतिरिक्त संवैधानिक (उपाय) होते हैं।

उधर, नेता शाहिद अब्बासी ने भी कहा कि सेना मार्शल लॉ लगाने के बारे में नहीं सोच रही है. उस ने कहा, मुझे नहीं लगता कि सेना इसके बारे में सोच रही है। लेकिन जब उनके पास कोई दूसरा विकल्प नहीं बचा तो सेना द्वारा तख्तापलट संभव हो सकता है।

पाकिस्तान इस वक्त सबसे बड़े आर्थिक संकट से जूझ रहा है। चीजों की आसमान छूती कीमतें लोगों के लिए परेशानी खड़ी कर रही हैं। दूसरी तरफ देश आईएमएफ से मदद पाने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है।