कोर्ट के आदेश के बावजूद नहीं मिली कांग्रेस नेता अजय राय को सुरक्षा, मुख्तार अंसारी के खिलाफ देनी थी गवाही

वाराणसी की दीवानी कचहरी में पूर्व विधायक और कांग्रेस के नेता अजय राय। - Dainik Bhaskar
वाराणसी की दीवानी कचहरी में पूर्व विधायक और कांग्रेस के नेता अजय राय।

कांग्रेस नेता अजय राय शुक्रवार को वाराणसी की एमपी-एमएलए कोर्ट में 31 साल पुराने अवधेश राय हत्याकांड में बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के खिलाफ गवाही देने पहुंचे। इसे लेकर कांग्रेसियों ने कहा कि लोकप्रिय जननेता को जिला पुलिस और प्रशासन द्वारा सुरक्षा न प्रदान किया जाना ओछी राजनीति का परिणाम है।

भाजपा के इशारे पर नहीं दी गई सुरक्षा

कांग्रेस के महानगर अध्यक्ष राघवेंद्र चौबे ने कहा कि बिना सुरक्षा व्यवस्था के कुख्यात अपराधी मुख्तार अंसारी के खिलाफ गवाही देने के लिए एमपी-एमएलए कोर्ट में कांग्रेस के पिंडरा विधानसभा के प्रत्याशी और पूर्व विधायक अजय राय पेश हुए। कोर्ट के आदेश के बाद भी जिला पुलिस-प्रशासन द्वारा भाजपा के इशारे पर पूर्व विधायक अजय राय को सुरक्षा व्यवस्था मुहैया नही कराई गई।

कोर्ट का आदेश है कि अजय राय को सुरक्षा व्यवस्था दी जाए। आज वह कुख्यात अपराधी मुख्तार अंसारी के खिलाफ अपने भाई अवधेश राय के हत्या की गवाही देने बिना सुरक्षा के कोर्ट गए थे। यह सरकार पूर्ण रूप से अपराधियों से मिली हुई है।

कुछ बुरा हुआ तो भाजपा और पुलिस होगी जिम्मेदार

राघवेंद्र चौबे ने कहा कि यह पहला मौका नहीं है। लगातार कई बार से अजय राय की सुरक्षा व्यवस्था से खिलवाड़ हो रहा है। अजय राय 5 बार के विधायक, पूर्व मंत्री और कांग्रेस पार्टी के कद्दावर नेता के साथ ही पिंडरा क्षेत्र से प्रत्याशी भी हैं। कुख्यात अपराधी के खिलाफ गवाही देने वाले मानिंद व्यक्ति को सुरक्षा न देना जिला प्रशासन की ओछी मानसिकता को दर्शाता है। मेरा सीधा आरोप भाजपा पर है।

हम कांग्रेसजन चेतावनी देते हैं कि अगर अजय राय की जान-माल को खतरा होता है तो इसके लिए एकमात्र जिम्मेदार भाजपा और जिला पुलिस-प्रशासन होंगे। बार-बार कोर्ट की अहवेलना की जा रही है, यह निंदनीय है। अजय राय की लोकप्रियता और जनप्रियता से भाजपा घबराई हुई है।