कोरोना टेस्ट से पहले करें ये 5 तरह के गार्गल, होगा लाभ

एक बार फिर से वो दौर लौट आया है जब कोविड के सभी नियमों को रिकॉल किया जा रहा है। फिर से कोरोना के बचाव के लिए जो नुस्खे अपनाए जा रहे थे उन्‍हें फिर से मोबाइल या कागजों में खोजा जा रहा है। वह भी दूसरी लहर के दौरान जो दंश झेला था वह काफी भयानक रहा। इस दौरान सर्दी-खांसी होना, गले में खराश होना अब नॉर्मल नहीं है। अगर आपको भी बार-बार गले खराब हो रहे हैं या खराश हो रही है या फिर गले दर्द कर रहे हैं तो ये 5 तरह के गार्गल जरूर करें। आपको आराम मिलेगा।
1. नमक का पानी – गुनगुने नमक के पानी से गरारे करें। इससे आपके गले एकदम ठीक हो जाएंगे। गले में हो रही खराश में काफी आराम मिलेगा। वहीं अगर खांसी से आपके गले में दर्द होने लगा हो तो नमक के पानी से गार्गल करने पर आपको बहुत जल्दी आराम मिलेगा।2. तुलसी के पानी से करें गरारे- सर्दी-खांसी की समस्या को दूर करने के लिए आप तुलसी के पानी से गरारे कर सकते हैं। इससे गले की खराश, सूजन और दर्द तीनों में आराम मिलता है। तुलसी एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल प्रॉपर्टीज से भरपूर होती है। तुलसी के पानी से गरारे करने से माउथवॉश का कार्य भी हो जाता है।3.त्रिफला के पानी से गरारे करें – जी हां, जरूर नहीं है सभी के घर में तुलसी का पौधा हो। इसकी जगह आप त्रिफला और नमक के पानी से भी गरारे कर सकते हैं। इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। अगर आपको गले में सूजन या टॉन्सिल हो गए है तो इस पानी से गरारे करने पर आराम मिल जाता है।

4.हल्दी और नमक के पानी से गरारे – नमक एंटी बैक्‍टीरियल होता है। यह मुंह के अंदर मौजूद बैक्टीरिया को नष्ट कर देता है। यह एंटी इंफ्लेमेटरी होने के कारण गले की सूजन और दर्द दोनों को कम कर देता है। जिससे खराश की समस्या को कम किया जा सकता है।

5. मुलेठी – मुलेठी अलग-अलग तरह से उपयोग में ले सकते हैं। जी हां, मुलेठी को अपने मुंह में रखिए और उसका कस उतारिए। इसके बाद मुलेठी का पानी उबालकर उसे गुनगुना कर लें और उसे पी लें। चाहे तो उस पानी में नमक डालकर आप गरारे कर सकते हैं। इससे बहुत जल्दी आराम होता है।