उत्तर कोरिया को सुरक्षित रखने के लिए अमेरिका अब दक्षिण कोरिया को परमाणु संपन्न पनडुब्बियां भेजेगा

विभिन्न मिसाइलों का परीक्षण कर दक्षिण कोरिया को भड़का रहे उत्तर कोरिया को जवाब देने के लिए अब दक्षिण कोरिया और अमेरिका ने नए समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं।

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति यून सुक सोल इस समय अमेरिका के दौरे पर हैं और उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से मुलाकात की है। उसके बाद दोनों देशों के नेताओं ने वाशिंगटन डिक्लेरेशन नामक एक समझौते की घोषणा की है।

इस समझौते को लेकर दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति यून ने कहा कि राष्ट्रपति बाइडेन ने दक्षिण कोरिया के प्रति अमेरिका की प्रतिबद्धता दिखाई है.अगर उत्तर कोरिया परमाणु हमला करता है तो अमेरिका दक्षिण कोरिया के साथ मिलकर अपने परमाणु हथियारों का इस्तेमाल कर निर्णायक जवाब देगा. उत्तर कोरिया की ओर से संभावित परमाणु हमले के खतरे का मुकाबला करने के लिए दोनों देश एक संयुक्त टास्क फोर्स बनाने के लिए भी तैयार हैं।

उधर, अमेरिका ने भी दक्षिण कोरिया को उत्तर कोरिया के गर्भगृह में लाने के लिए अपनी परमाणु हथियार से लैस पनडुब्बियां और अन्य सैन्य उपकरण भेजने का ऐलान किया है।

बिडेन ने कहा कि अगर उत्तर कोरिया ने अमेरिका या उसके सहयोगियों के खिलाफ परमाणु हमला किया तो इस हमलावर का शासन खत्म हो जाएगा।