आजम खान को यूपी चुनाव में प्रचार के लिए जमानत की दरकार, सुप्रीम कोर्ट से की अपील

नई दिल्ली: विभिन्न मुकदमों में पिछले 2 साल से जेल में बंद आजम खान (Azam Khan) ने अब जमानत पाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है. आजम खान ने कोर्ट से अपील की है कि उन्हें असेंबली चुनाव लड़ने के लिए अंतरिम बेल प्रदान की जाए.

प्रचार के लिए मांगी जमानत

बताते चलें कि जौहर यूनिवर्सिटी बनाने के लिए सरकारी जमीन हड़पने समेत कई मामलों में आजम खान (Azam Khan) सीतापुर जेल में बंद हैं. उन्हें कुछ मुकदमों में बेल मिल चुकी है, जबकि कई मुकदमों की सुनवाई अब भी पैंडिंग है. सूत्रों के मुताबिक आजम खान रामपुर से चुनाव (UP Assembly Election 2022) लड़ने की तैयारी कर रहे हैं. इसके लिए उन्होंने अपने बेटे के जरिए नामांकन फॉर्म भी खरीदवा लिए हैं. अब वे चुनाव प्रचार के लिए जेल से बाहर आने की कोशिश में जुटे हैं.

फरवरी 2020 में भेजे गए सीतापुर जेल 

बताते चलें कि समाजवादी पार्टी (SP) के सांसद एवं पूर्व मंत्री आजम खान अपने बेटे अब्दुल्ला आजम (Abdullah Azam Khan) साथ सीतापुर (Sitapur Jail) जेल में बंद हैं. दोनों को 27 फरवरी 2020 को रामपुर जेल से सीतापुर जेल में शिफ्ट किया गया था. बेटे अब्दुल्ला आजम को कोर्ट से जमानत मिल गई, जिसके बाद उसे जेल से रिहा कर दिया गया. वहीं आजम खान अब भी जेल में बंद हैं.

सैकड़ों बीघा जमीन हड़पने का आरोप

सूत्रों के मुताबिक समाजवादी पार्टी की ओर से आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम (Abdullah Azam Khan) को अपना कैंडिडेट (UP Assembly Election 2022) बनाने की तैयारी है. हालांकि पिता-पुत्र पर आरोप है कि उन्होंने रामपुर में जौहर यूनिवर्सिटी बनाने के लिए सैकड़ों बीघा जमीन हड़प ली. इसके लिए कागजों में हेरफेर किया गया और कई जगह दबंगई से जमीनों पर कब्जा किया गया. प्रदेश में योगी सरकार आने के बाद मामले की जांच शुरू हुई और दोनों पर एक के बाद एक 43 केस दर्ज हो गए. जिसके बाद पुलिस ने उन्हें अरेस्ट कर जेल भेज दिया.