आईएनएस सुमेधा ‘ऑपरेशन कावेरी’ के तहत सूडान में फंसे 278 भारतीयों को लेकर रवाना

ऑपरेशन कावेरी के तहत आईएनएस सुमेधा ने सूडान में फंसे 278 भारतीयों के पहले जत्थे को जेद्दाह पहुंचाया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। उन्होंने ऑपरेशन कावेरी के तहत बचाए गए इन लोगों की तस्वीरें और वीडियो भी ट्वीट किए और साझा किए। सूडान में फंसे भारतीयों और अन्य विदेशी नागरिकों को निकालने की प्रक्रिया तेज कर दी गई है। सूडान से भारतीयों का पहला जत्था रवाना हो गया है। भारतीय युद्धपोत आईएनएस सुमेधा 278 लोगों को लेकर जेद्दा के लिए रवाना हुआ। भारत सरकार ने अपने नागरिकों को सुरक्षित निकालने के लिए ऑपरेशन कावेरी लॉन्च किया है। पीएम मोदी ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि हमारी प्राथमिकता अपने लोगों को सुरक्षित लाना है और अभियान शुरू हो गया है. सूडान में जारी गृहयुद्ध के बीच तीन दिन के संघर्षविराम का ऐलान किया गया है।

 

भारत ने सूडान से भारतीयों को निकालने और देश में वापस लाने के लिए ‘ऑपरेशन कावेरी’ शुरू किया

अफ्रीकी देश सूडान इस समय गृहयुद्ध की स्थिति का सामना कर रहा है। सेना और अर्धसैनिक बलों के बीच जारी संघर्ष में अब तक 400 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं। भारत समेत कई देशों के नागरिक वहां फंसे हुए हैं। इस बीच, भारत ने सूडान से भारतीयों को निकालने और देश वापस लाने के लिए ‘ऑपरेशन कावेरी’ शुरू किया है। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने ट्विटर पर यह जानकारी दी।

भारतीयों को वापस लाने के लिए वायुसेना के दो विमान और नौसेना का आईएनएस सुमेधा सुमेधा पहुंचा 

सूडान में गृहयुद्ध में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए वायुसेना के दो सी-130 विमान और नौसेना का आईएनएस सुमेधा सऊदी अरब और सूडान पहुंचा। 

विदेश मंत्री के मुताबिक 

भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने ट्वीट किया, “सूडान में फंसे भारतीय नागरिकों को वापस लाने के लिए ऑपरेशन कावेरी शुरू किया गया है। लगभग 500 भारतीय सूडान बंदरगाह पहुंच गए हैं। और भारतीयों के लिए बचाव अभियान चल रहा है। भारतीय जहाज और विमान उन्हें घर ले जाएंगे। भारत सूडान में अपने सभी भाइयों की मदद कर रहा है।” करने के लिए प्रतिबद्ध है।” भारत के अलावा कई देश सूडान में फंसे अपने नागरिकों को निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चला रहे हैं. अब तक अमेरिका, ब्रिटेन समेत 9 देश अपने राजनयिकों को बचा चुके हैं।