पुलिस के मुताबिक अतीक अहमद के आदेश के बाद उमेश पाल की हत्या की पूरी साजिश बरेली जेल में रची गई थी. अतीक अहमद का बेटा असद गुलाम, उस्मान और गुड्डू मुस्लिम के साथ चाचा अशरफ से मिलने बरेली जेल गया था. इसी जेल के अंदर अशरफ ने उमेश को मारने की पूरी योजना बनाई। जेल में असद की अशरफ से मुलाकात करीब 2 घंटे 10 मिनट तक चली। 11 फरवरी 2023 को उमेश पाल को मारने की पूरी योजना बनाई गई।

मुलाकात असद के आईडी पर हुई थी

सूत्रों के मुताबिक 11 फरवरी 2023 को असद और उसके 8 साथियों ने अशरफ से बरेली जेल में मुलाकात की. यहीं से उमेश पाल की हत्या की पूरी साजिश रची गई थी। सुबह 11 बजे असद, अशरफ का साला सद्दाम, लल्ला गद्दी, शूटर विजय उर्फ ​​उस्मान चौधरी, गुड्डू मुस्लिम और शूटर गुलाम बरेली अशरफ से मिलने जेल पहुंचे. मीटिंग के लिए असद की आईडी का इस्तेमाल किया गया था। दोपहर 1.10 बजे सभी 9 मुलाकाती जेल से निकल गए।

मुलाकात के 13 दिन बाद उमेश पाल की हत्या

सूत्रों के मुताबिक जेल अधिकारियों की मिलीभगत से यह बैठक हुई थी. जहां बैठक हुई, वहां सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे थे। इस मुलाकात के 13 दिन बाद उमेश पाल की हत्या कर दी गई थी। हत्याकांड के बाद जब जांच आगे बढ़ी और जेल के सीसीटीवी खंगाले गए तो साजिश का पर्दाफाश हुआ और पता चला कि अशरफ शूटर के साथ असद से मिला था. पुलिस पूछताछ में अतीक अहमद ने इस बात का खुलासा भी किया।