अमेरिका यू. कोरिया को सिगरेट बेचने वाली एक कंपनी पर 52,000 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया

कैलिफोर्निया: अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच काफी समय से दुश्मनी चल रही है. वे अपने मित्र देशों को उनकी इच्छा के विरुद्ध काम करना पसंद नहीं करते। फिलहाल अमेरिका ने लंदन स्थित दुनिया की सबसे बड़ी तंबाकू कंपनी पर हजारों करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। एक ब्रिटिश-अमेरिकी तंबाकू कंपनी पर उत्तर कोरिया को सिगरेट बेचने का आरोप लगाया गया है। 

अमेरिका ने ब्रिटेन की ब्रिटिश-अमेरिकन टोबैको कंपनी पर 52,000 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। अमेरिका ने यह कार्रवाई तब की है जब मित्र देश की एक कंपनी ने उत्तर कोरिया को सिगरेट बेचने की बात स्वीकार की है। कंपनी के सूत्रों के मुताबिक, सिगरेट कंपनी और उत्तर कोरिया के बीच डील 2007 से 2017 के बीच हुई थी। 

एक रिपोर्ट के मुताबिक, सिगरेट कंपनी ने अमेरिकी प्रतिबंधों को धता बताते हुए उत्तर कोरिया को 35,000 करोड़ रुपये के तंबाकू उत्पाद बेचे। इससे बौखलाए अमेरिका ने कोरियाई बैंकर सिम ह्योन-सियोप, चीनी सहायक किन गुओमिंग और हान लिनलिन के खिलाफ आपराधिक आरोप दायर किए हैं, जिन्होंने तंबाकू कंपनी के साथ सौदे में ब्रोकर की मदद की थी। 

पिछले साल मई में, संयुक्त राज्य अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में उत्तर कोरिया को तम्बाकू आयात करने पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी। लेकिन, उत्तर कोरिया के सहयोगी चीन और रूस ने इस मामले में अपने वीटो पावर का इस्तेमाल कर इसका बचाव किया। गौरतलब है कि उत्तर कोरिया की सरकार तंबाकू की बिक्री से काफी कमाई करती है।