अब बहुत हो गया! 550 बच्चों के पिता पर कोर्ट ने लगाया बैन, हैरान कर देने वाली वजह

स्पर्म डोनेशन: डच कोर्ट ने शुक्रवार को एक ऐसे मामले में फैसला सुनाया, जिस पर पहले कभी सुनवाई नहीं हुई. अब बहुत हो गया, कोर्ट ने एक शख्स को आदेश दे दिया कि वह अब और बच्चे पैदा नहीं कर सकता। इस शख्स के देशभर में 550 बच्चे हैं। कोर्ट के आदेश का पालन नहीं करने पर व्यक्ति को 1.10 लाख डॉलर यानी करीब 89.89 लाख रुपये का जुर्माना देना होगा. 

असल मुद्दा क्या है?
इस शख्स का नाम जोनाथन मीजर है और ये एक स्पर्म डोनर है। जोनाथन के स्पर्म से देशभर में 500 से 550 बच्चे पैदा हुए हैं। चिकित्सकीय दृष्टि से वह इन बच्चों के जैविक पिता हैं। कोर्ट ने यह भी आदेश दिया कि जिस अस्पताल में उसका स्पर्म डोनेट किया गया था, उसे नष्ट कर दिया जाए। कोर्ट ने यह भी साफ कर दिया है कि जिन जोड़ों ने पहले से बुकिंग करा रखी है उन्हें नष्ट नहीं किया जाएगा। 

 

यह मामला तब सामने आया जब एक संस्था ने जोनाथन जोनाथन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। शिकायत में कहा गया है कि जोनाथन का स्पर्म डोनेट करने का अधिकार खत्म कर दिया गया है। संगठन ने ये भी कहा कि अगर जोनाथन के स्पर्म से पैदा हुए लड़के और लड़की आपस में सेक्स करते हैं तो ये इंब्रीडिंग की प्रक्रिया होगी, जो इंसानियत के लिए खतरनाक होगी. 

2017 में जोनाथन के स्पर्म डोनेशन का मामला पहली बार सामने आया था। उस समय जोनाथन नीदरलैंड में 100 बच्चों के जैविक पिता बने। इसके बाद नीदरलैंड के फर्टिलिटी क्लीनिक ने उन्हें स्पर्म डोनेशन से ब्लैकलिस्ट कर दिया था। जोनाथन ने 10 क्लिनिक्स को स्पर्म डोनेट किया था। इसके बाद कई महिलाओं ने उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी।

किन्तु योनातन ने अपनी आदत नहीं बदली। उन्होंने दूसरे देशों में स्पर्म डोनेशन शुरू किया। इसके लिए उसने डेनिश स्पर्म बैंक क्रायोस को चुना। यह स्पर्म बैंक दुनिया के अलग-अलग देशों में काम करता है। इसलिए जोनाथन के दुनिया भर के कई देशों में बच्चे हैं। स्पर्म बेचने के लिए जोनाथन ने कई बार अपना नाम भी बदला। वह स्पर्म डोनेट कर अच्छी कमाई भी कर रहा था। 

स्पर्म डोनेशन क्या है?
इस प्रक्रिया का उपयोग बांझपन की समस्या वाले दंपती को विज्ञान की मदद से बच्चे को गर्भ धारण करने में मदद करने के लिए किया जाता है। इसके लिए फर्टाइल पुरुष के स्पर्म का इस्तेमाल किया जाता है। इस प्रक्रिया में स्पर्म डोनर कपल का कोई अजनबी या कोई परिचित हो सकता है। स्पर्म डोनर को स्पर्म डोनेट करने से पहले शारीरिक और मनोवैज्ञानिक जांच से गुजरना पड़ता है।