Thursday, February 22

अपने याददाश्त को तेजी से बढ़ाये, करे इन चीज़ो का सेवन

आज के जीवन में महामारी प्रदूषण का प्रभाव लोगों के मन के साथ-साथ स्वास्थ्य पर भी पड़ने लगा है। आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग तनाव में आ जाते हैं और मुश्किल से दो पल की खुशी भी काट पाते हैं।

उम्र के साथ याददाश्त कमजोर होती जाती है, लेकिन कुछ बच्चे आज के समय में चीजों को भूलने लगे हैं। शरीर में पोषण की कमी या किसी चोट या बीमारी के कारण व्यक्ति की याददाश्त भी कमजोर हो सकती है। हालांकि, यह चिंता की बात नहीं है, इसे ठीक किया जा सकता है। बस खाने में कुछ बदलने की जरूरत है, डेली रूटीन में बदलाव की जरूरत है। ये हैं कुछ घरेलू नुस्खे, जिनसे आप अपनी या अपने बच्चों की याददाश्त बढ़ा सकते हैं।

मछली का तेल पूरक

मछली का तेल ओमेगा -3 फैटी एसिड ईकोसापेंटेनोइक एसिड (ईपीए) और डोकोसाहेक्सैनोइक एसिड (डीएचए) में समृद्ध है। ये वसा तनाव की चिंता को कम करने में मदद करते हैं। यह सप्लीमेंट घर पर बुजुर्गों, बच्चों या किसी भी उम्र के लोगों की याददाश्त बढ़ाने में मदद करता है।

सेब

इसमें क्वेरसेटिन नाम का एंटीऑक्सीडेंट होता है जो याददाश्त में सुधार करता है। सेब में पार्किंसंस और अल्जाइमर जैसी बीमारियों के खतरे को कम करने की ताकत होती है।

ब्राह्मी याददाश्त बढ़ाने के लिए सबसे अच्छी जड़ी-बूटियों में से एक है। इसमें विभिन्न प्रकार के बायोएक्टिव पदार्थ होते हैं जैसे बैकोसाइड साइटगमास्टरोल, जो न केवल याददाश्त में सुधार करता है बल्कि दिमाग को शांत और तेज भी बनाता है।

हल्दी

हल्दी में करक्यूमिन नाम का तत्व होता है जो शरीर में सूजनरोधी प्रभाव देता है। हल्दी वाला दूध दिमाग को शांत करता है, याददाश्त को तेज करता है, शरीर में कहीं भी दर्द या सूजन को कम करता है।

अच्छी नींद है जरूरी

याददाश्त बढ़ाने और मानसिक रूप से स्वस्थ रहने के लिए नींद भी बहुत जरूरी है। रोजाना 6 से 8 घंटे की नींद लेना बहुत जरूरी है।