अगस्त में रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की बैठक

पहले से ही महंगाई से परेशान इंग्लैंड में खुदरा महंगाई पिछले 40 साल में 9.4 फीसदी के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है. राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने बुधवार को उपभोक्ता मूल्य मुद्रास्फीति के आंकड़े जारी किए और कहा कि जून खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 9.4 प्रतिशत हो गई है। एक महीने पहले यह 9.1 फीसदी था। महंगाई का यह आंकड़ा 1982 के बाद सबसे ज्यादा है। उस वक्त महंगाई 11 फीसदी पर पहुंच गई थी। रूस- यूक्रेन (रूस-यूक्रेन संकट) के बीच युद्ध की शुरुआत के बाद से , आपूर्ति-श्रृंखला खाद्य उत्पादों और ईंधन की कीमतों में भी काफी वृद्धि हुई है, जिससे लोगों के जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ा है। इस साल खाद्य महंगाई दर 9.8 फीसदी बढ़ी, जबकि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में पिछले साल 42.3 फीसदी की बढ़ोतरी हुई।

ब्रिटिश सेंट्रल बैंक (बैंक ऑफ इंग्लैंड) के गवर्नर एंड्रयू बेली पहले ही बढ़ती मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए ब्याज दरें बढ़ाने की संभावना व्यक्त कर चुके हैं। दिसंबर 2021 से बैंक ऑफ इंग्लैंड ने पांच बार ब्याज दरें बढ़ाई हैं। ब्रिटेन की तरह अमेरिकी अर्थव्यवस्था भी महंगाई से जूझ रही है। अमेरिका में मुद्रास्फीति जून में चार दशक के रिकॉर्ड उच्च स्तर 9.1 प्रतिशत पर पहुंच गई।

बैंक ऑफ इंग्लैंड ब्याज दरों में 50 आधार अंकों की वृद्धि कर सकता है

गवर्नर बेली ने कहा कि अगस्त में मौद्रिक नीति समिति की बैठक में ब्याज दरों में 50 आधार अंकों की बढ़ोतरी संभव है। उन्होंने कहा कि 1997 में बैंक ऑफ इंग्लैंड को ब्याज दर निर्धारित करने का अधिकार मिला। तब से हमने सबसे बड़ी चुनौती का सामना किया है। हमारा लक्ष्य महंगाई दर को फिर से 2 फीसदी पर लाना है। अगस्त की बैठक में ब्याज दरों में 50 आधार अंकों की बढ़ोतरी 1995 के बाद सबसे बड़ी एकल वृद्धि होगी।

यूरोपीय सेंट्रल बैंक भी बढ़ा सकता है ब्याज दरें

वित्तीय बाजार में यह भी चर्चा है कि यूरोपीय सेंट्रल बैंक भी ब्याज दरों में 50 से 75 आधार अंकों की वृद्धि कर सकता है। अगर ऐसा होता है, तो यूरोपीय सेंट्रल बैंक दो दशकों में पहली बार ब्याज दरें बढ़ाएगा। यूरोपीय सेंट्रल बैंक की आज अहम बैठक होने जा रही है।

फेडरल रिजर्व भी बढ़ा सकता है ब्याज दरें

जून में, संयुक्त राज्य अमेरिका में मुद्रास्फीति की दर 40 वर्षों में 9.1 प्रतिशत के नए रिकॉर्ड पर पहुंच गई। 26 और 27 जुलाई को फेडरल रिजर्व की अहम बैठक होने जा रही है। फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में 75 आधार अंकों की वृद्धि की उम्मीद है। पहले यह अनुमान 100 आधार अंक था। इससे पहले जून में भी फेडरल रिजर्व ने ब्याज दर में 75 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी की थी।